in , ,

नवदुर्गा माता सिद्धिदात्री – माँ दुर्गा के सिद्धिदात्री स्वरूप की पूजा

Siddhidatri Devi
HindiRang

नवरात्र के नोवें दिन माता दुर्गा ज़ी के नोवें स्वरूप की पूजा की जाती है। जिनको हम सब देवी सिद्धिदात्री के नाम से जानते है। देवी सिद्धिदात्री सभी प्रकार की सिद्धियो को देने वाली है।  सिद्धि का अर्थ ही होता है मोक्ष। देवी सिद्धिदात्री को मोक्ष देने वाली देवी के नाम से भी जाना जाता है।

माता सिद्धिदात्री (Siddhidatri) की चारभुजाए होती है वर्णरक्त और वाहनसिंह के साथ देवी कमल पुष्प पर आसीन होती है। देवी प्रसन्न मुद्रा मे रहती है। देवी के एक हाथ मे कमल पुष्प,  दूसरे हाथ मे चक्र, तीसरे हाथ मे गदा ओर चोथे हाथ मे शंख होता है। इनके नेत्रो मे करुणा लहरा रही होती है।

नवरात्रि तारीख (Navratri 2018 date) किस दिन होगी कौन सी देवी स्वरूप की आराधना

प्रथम नवरात्र पर नवदुर्गा – माता शैलपुत्री

द्वितीय नवरात्र पर नवदुर्गा – माता ब्रह्मचारिणी

तृतीय नवरात्र पर नवदुर्गा – माता चंद्रघंटा

चतुर्थी नवरात्र पर नवदुर्गा – माता कूष्मांडा

पंचम नवरात्र पर नवदुर्गा – माता स्कंदमाता

षष्ठी नवरात्र पर नवदुर्गा – देवी कात्यायनी

सप्तम नवरात्र पर नवदुर्गा – माता कालरात्रि

अष्टम नवरात्र पर नवदुर्गा – माता महागौरी

नवम नवरात्र पर नवदुर्गा – माता सिद्धिदात्री

18 अक्टूबर, 2018 को नवरात्र का नोवाँ दिन है और इस दिन मां सिद्धिदात्री की आराधना की जाती है।

माता सिद्धिदात्री पूजा मंत्र

सिद्धगन्धर्वयक्षाघैरसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी॥

इनकी उपासना से सभी असंभव कार्य भी संभव हो जाते है। इनके चरणों में शरण पाने के लिए हमे पूरी श्रधा से प्रयत्न करना चाहिए। इस दिन देवी को अवश्य भोग लगाना चाहिए। जो भी व्यक्ति समस्त सिद्धियों की प्राप्ति करना चाहता है उसे देवी सिद्धिदात्री की पूजा विशेष रूप से करनी चाहिए।

यह भी पढ़े: नव दुर्गा नवरात्री पर्व कथा पूजन 2018 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

october festivals

जानिये अक्टूबर महीने में कोन – कोन से व्रत और त्योहार आने वाले है

shailputri_devi

नवदुर्गा प्रथम माता शैलपुत्री – माँ दुर्गा के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा