in ,

भगवान विष्णु के पुरे 24 अवतारों की सूची

24 avatars of lord vishnu

भागवत पुराण में, यह उल्लेख किया गया है कि जब भी बुराई की अच्छाई पर विजय होने लगती है, अंधेरा प्रकाश पर हावी होने लगता है, और अन्याय व अत्याचार बढ़ने लगते है। तब भगवान विष्णु धर्म को बहाल करने और सही रास्ते में लोगों को मार्गदर्शन करने के लिए पृथ्वी पर पुनर्जन्म लेते है।

bhagwaan vishnu ji ke 24 avtaar

कुल मिलाकर, भगवान विष्णु ने 23 बार पुनर्जन्म लिया है। और हर बार वह एक अलग रूप में रहा है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान विष्णु कलयुग के अंत में एक आखरी बार फिर से जन्म लेंगे जो कि उनका 24वां और आखिरी अवतार होगा।

चलिए जानते हैं भगवान विष्णु के सभी 24 अवतारों के बारे में और पता लगाते हैं कि यह कैसे एक दूसरे से भिन्न है।

भगवान विष्णु के अवतारों की सूची (24 avatars of lord vishnu)

1. आदि पुरुष ( Adi Purush)

brahma-from-vishnus-navel

आदि पुरुष भगवान विष्णु का सबसे पहला अवतार था। यही अवतार श्री नारायण के नाम से भी जाना जाता है। इस अवतार में भगवान विष्णु समुद्र के भीतर शेषनाग के ऊपर विश्राम करते हुए दिखाए जाते हैं। भगवान नारायण ही सारी दुनिया के रचयिता है। उनकी नाभि में से उस कमल का आगमन हुआ था जहां ब्रह्मा जी निवास करते हैं।

2. चार कुमार (Four Kumars)

Four-Kumars_24-Avatars-of-Vishnu

चार कुमार ब्रह्मा जी द्वारा बनाए गए पहले प्राणी थे। जिनका नाम सनका, सनातन, सनन्दना और सनत कुमार था। यह अवतार छोटे शिशुओं की तरह दिखाई देता है। इन चारों का उद्देश्य जीवन के निर्माण में ब्रह्माजी की सहायता करना था।

3. नारद (Narada)

Narad

ऋषि का रूप लिए हाथ में तंबूरा पकड़े नारद मुनि का अवतार भी भगवान विष्णु के अवतारों में से एक है। नारद जी के पास क्षणों में एक स्थान से दूसरे स्थान पर यात्रा करने की विशेष क्षमता है। उन्हें कहानीकार, संगीतकार और संदेश वाहक के रूप में जाना जाता है।

4. नर नारायण (Nar Narayan)

Nara-Narayana_24-Avatars-of-Vishnu

नर और नारायण भगवान विष्णु के जुड़वा ऋषि अवतार है। उनका जन्म धरती पर सत्य, न्याय, धार्मिकता और धर्म के अन्य तत्वों की स्थापना करने के लिए हुआ था। वह दोनों भाई इतने शक्तिशाली थे कि वह अपने ध्यान के माध्यम से भगवान शिव के विनाशकारी हथियार पाशुपतास्त्र को सशक्त करने में सक्षम थे।

5. कपिल (Kapil)

Kapila_24-Avatars-of-Vishnu

कपिल ऋषि महाभारत में वर्णित एक वैदिक ऋषि हैं। कहां जाता है कि उन्होंने संख्या स्कूल ऑफ हिंदू फिलॉस्फी की स्थापना की है। संख्या ज्ञान को प्राप्त करने का एक सूत्र है।

6. दत्तात्रेय (Dattatraya)

Dattatreya

दत्तात्रेय को त्रिमूर्ति के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऋषि हैं और योग के स्वामी हैं। इन्हें तीन सिर के साथ संत के रुप में दर्शाया जाता है। वह हिंदू धर्म के तीनों देवता ब्रह्मा, विष्णु और महेश का प्रतिनिधित्व करते हैं। जिनके तीन सिर के साथ 6 हाथ हैं

7. यज्ञ (Yajna)

yag

इसे यागेश्वार के रूप में भी जाना जाता है। यह एक अनुष्ठान है जिसे देवताओं को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है। कुछ ग्रंथों के अनुसार देवताओं के राजा इंद्र को भी यज्ञ के रूप में जाना जाता है

8. ऋषभ (Rishabh)

Rishabh

ऋषभ एक उपदेशक और आध्यात्मिक गुरु थे। जिन्हें जैन धर्म के संस्थापक के रूप में भी माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि वह जन्म और मृत्यु के चक्र से बच निकले थे, और उन्होंने लोगों का मोक्ष के मार्ग पर मार्गदर्शन किया।

9. आदिराज पृथु (Prithu)

Prithu

भगवान विष्णु के एक अवतार का नाम आदिराज पृथु है। वह धरती पर हरियाली के जिम्मेदार हैं। उन्होंने अपना जीवन भगवान की सेवा में समर्पित कर दिया और लोगों को धर्म के मार्ग पर चलने की प्रेरणा दी।

यह भी पढ़े: आरती श्री विष्णु जी की

10. भगवान धन्वन्तरि (Dhanvantari)

समुंद्र मंथन के समय भगवान धन्वन्तरि अमृत का कलश लिए प्रकट हुए थे। इन्हीं धन्वन्तरि को विष्णु जी का अ

Dhanvantari_24-Avatars-of-Vishnu

वतार माना जाता है, कहा जाता है कि यह आयुर्वेद के देवता हैं। जिनकी पूजा स्वास्थ्य प्राप्ति के लिए की जाती है।

11. मोहिनी (Mohini)

Mohini

यह विष्णु जी का नारी अवतार है। समुंद्र मंथन के समय जब अमृत कलश की उत्पत्ति हुई तो असुर अमृत कलश को लेकर भाग निकले, ऐसे में भगवान विष्णु ने मोहिनी का अवतार लिया और बड़ी ही चतुराई के साथ अमृत को देवताओं में वितरित कर दिया। उसी समय भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से राहु के सिर को काट दिया था। जो आज ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु के रूप में दो ग्रहों के नाम से प्रसिद्ध है।

12. हयग्रीव अवतार (Hayagreeva)

Hayagreeva_24-Avatars-of-Vishnu

इन्हें ज्ञान के देवता के रूप में पूजा जाता है। जिन्हें घोड़े के सिर के साथ एक आदमी के शरीर वाला दर्शाया जाता है। मधु और कैटभ नाम के दो राक्षसों ने ब्रह्मा जी के वेदों का हरण कर लिया था। तब भगवान विष्णु के अवतार हयग्रीव नेमधु और कैटभ का वध कर वेद व पुराण ब्रह्मा जी को दे दिए।

13. महर्षि व्यास (Vyasa)

Ved-Vyas

इन्हें वेदव्यास के नाम से भी जाना जाता है। वेदव्यास जी चिरंजीवी हैं इन्होंने बहुत से वेदों की संरचना की, महर्षि वेदव्यास ने ही महाभारत ग्रंथ की रचना की थी।

14. मत्स्य अवतार (Matsya Avatar)

Matsya

सृष्टि को परलय से बचाने के लिए भगवान विष्णु जी ने मत्स्य अवतार लिया था। जो कि आधा मछली और आधा मानव के रुप में दर्शाया जाता है। भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार ने मनु की वेदों, पौधों के बीजों व प्राणियों को बचाने में मदद की थी।

15. कूर्म अवतार (Kurma Avata)

Kurma_24-Avatars-of-Vishnu

पुराने ग्रंथों के मुताबिक भगवान विष्णु जी ने कछुए का अवतार लेकर समुंद्र मंथन में सहायता की थी। भगवान विष्णु जी का यह अवतार अपनी पीठ पर संपूर्ण ब्रह्मांड का वजन उठाने में सक्षम है।

16. वराह अवतार (Varaha Avatar)

Varaha-Avatar

वराह अवतार भगवान विष्णु जी का दूसरा अवतार माना जाता है। हिंदू ग्रंथों के मुताबिक उन्होंने धरती को बचाने के लिए राक्षस हिरण्याक्ष का वध किया था। जो की धरती को समुंदर तल में ले गया था।

17. नरसिंह (Narsimha)

Hiranyakyashipu

नरसिंह भगवान विष्णु का आधा शेर और आधा मानव अवतार है। जिनका जन्म राजा हिरण्यकशिपु के शासनकाल को समाप्त करने के लिए हुआ था। राजा हिरण्यकशिपु स्वयं को भगवान से भी अधिक बलशाली मानता था। उसे ना तो कोई देवता, ना पक्षी, ना पशु, ना मनुष्य, ना दिन में, ना रात में, ना धरती पर, ना आकाश में, ना अस्त से, ना शास्त्र से मरने का वरदान प्राप्त था।

18. वामन (Vamana)

mahabali

देत्यो के राजा बलि ने पूरे स्वर्ग लोक पर अपना अधिकार स्थापित कर लिया था। महाबली कि इस बढ़ती हुई शक्ति को रोकने के लिए भगवान विष्णु ने वामन नाम के ब्राह्मण का अवतार लिया था। जो की कद्द में बोन थे।

19. परशुराम (Parshurama)

parashuram

परशुराम जी एक क्षत्रिय ब्राह्मण है। जिन्हें ऋषि के रूप में एक हाथ में कुल्हाड़ी लिए दर्शाया जाता है। उनका जन्म बुरे क्षत्रियों के अत्याचारों को समाप्त करने के लिए हुआ था। जो कि अपनी शक्तियों का दुरुपयोग कर निर्दोषों पर अत्याचार व उनके साथ अन्याय कर रहे थे।

यह भी पढ़े: भगवान विष्णु जी की चालीसा

20. श्री राम (Rama)

Ram

श्री राम हिंदू धर्म के सबसे महत्वपूर्ण और शक्तिशाली देवताओं में से एक हैं। और महाकाव्य रामायण के मुख्य चरित्र है। त्रेता युग में राक्षसराज रावण का आतंक बढ़ता जा रहा था। जिसे देवता भी भयभीत थे, राजा राम आतंकी रावण के शासन को समाप्त और अपनी पत्नी सीता को मुक्त करने के लिए रावण का वध करते हैं, और धरती पर धर्म व न्याय की स्थापना करते हैं।

21. श्री हरि अवतार (shree hari)

hari

प्राचीन ग्रंथों के अनुसार गजेंद्र अपनी पत्नियों के साथ तालाब में स्नान करने गया। वहां उसका एक विशाल मगरमच्छ के साथ युद्ध हो गया। यह युद्ध संघर्ष 1000 साल तक चलता रहा। तब गजेंद्र ने भगवान विष्णु का ध्यान किया और भगवान विष्णु श्री हरि के अवतार में प्रकट हुए। उन्होंने अपने सुदर्शन चक्र से मगरमच्छ का वध किया और गजेंद्र का उद्धार किया।

22. श्री कृष्ण अवतार (Krishna)

Sri-Krishna

श्री कृष्ण भगवान विष्णु जी के बड़े रूपों में से एक रुप है। उनका जन्म अपने अत्याचारी मामा कंस का शासन समाप्त करने के लिए हुआ था। महाभारत में भी श्री कृष्ण जी की विशेष भूमिका थी।

23. बुद्ध अवतार (Buddha)

buddha

सिद्धार्थ गौतम जी को आज गौतम बुद्ध के नाम से जाना जाता है। ज्ञान की प्राप्ति के लिए उन्होंने अपना परिवार और सभी तरह के भौतिक अधिकार व सुख सुविधाएं छोड़ दी थी। उन्होंने बौद्ध धर्म की स्थापना की और लोगों का मार्गदर्शन किया।

24. कल्कि अवतार(Kalki)

Kalki_24-Avatars-of-Vishnu

कल्कि भगवान विष्णु जी का एकमात्र ऐसा अवतार है जिसका अभी तक जन्म नहीं हुआ है। ऐसा कहा जाता है कि वह एक नए सत्य युग या कालकी युग की शुरुआत करेंगे और समस्त धरती से बुराई का खात्मा कर देंगे। कल्कि को एक सफेद घोड़े की सवारी करते और हाथ में चमकदार तलवार लिए योद्धा के रुप में दर्शाया जाता है।

समय वा रूप में अंतर होने के बावजूद उनके सभी अवतारों में एक समानता थी। उन सभी अवतारों का लक्ष्य बुराइयों को समाप्त करने और धर्म को फिर से स्थापित करने का था। यही कारण है कि भगवान विष्णु को ब्रह्मांड के संरक्षक के रूप में जाना जाता है।

यह भी पढ़े: श्री कृष्ण चालीसा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ganga dussehra

क्यों मनाया जाता है गंगा दशहरा(ganga dussehra), पूजन विधि और मंत्र

10 महत्वपूर्ण जीवन सबक जिन्हें भगवान शिव से हर किसी को सीखना चाहिए