in ,

वारों के अनुसार किये जाने वाले कार्य

Vaar aur unme kiye jaane vaale kary:

7 दिनों को मिलाकर सप्ताह बनता है और हिंदू धर्म के अनुसार प्रत्येक दिन का अपना एक महत्व है। इसीलिए कोई भी नया कार्य आरंभ करने से पहले सप्ताह के दिनों के ऊपर निगाह डालना अवश्य हो जाता है। ऐसा करना कार्य के लिए शुभ माना जाता है और उसमें सफलता भी प्राप्त होती है।

days

सोमवार से जुड़े व्यवसाय व कार्य – Tasks For Monday

जल संबंधी किसी भी कार्य को करने के लिए सोमवार का दिन बहुत ही शुभ माना जाता है। सोमवार को किए जाने वाले कार्यों की सूची नीचे दी गई है।

– नल लगवाना
– कुएं बनवाना
– बर्फ जमाने का व्यवसाय
– फ्रिज खरीदना
– खेती से जुड़े कार्य
– गुड़ अथवा शक्कर का व्यवसाय
– वृक्षों संबंधी कार्य
– शंख व मोती का व्यवसाय
– वस्त्रों व आभूषणों का कार्य
– फूलों का कार्य
– यज्ञ करवाना
– दूध से संबंधित व्यवसाय
– गीत व संगीत से जुड़े विभिन्न कार्य

मंगलवार के दिन किए जाने वाले कार्य – Tasks For Tuesday 

मंगलवार का दिन विष संबंधी कार्य करने के लिए अधिक उपयुक्त माना जाता है। जैसे कि विष के द्वारा औषधियों का निर्माण करना या फिर अन्य कोई सकरात्मक कार्य करना। अग्नि से जुड़े कार्य भी मंगलवार के दिन ही किये जाने चाहिए। युद्ध तथा अस्त्र-शस्त्र संबंधित कार्य करने के लिए भी यह दिन बहुत शुभ माना जाता है। मंगलवार के दिन भूलकर भी ऋण नहीं लेना चाहिए क्योंकि यह चुकाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। इसके इलावा इस दिन जासूसी संबंधी कार्य, गवाही, सेना के लिए तैयारी, वाद-विवाद का निर्णय, किसी से सुलह करना व साहस संबंधित कार्य बहुत ही शुभ माने जाते हैं।

बुधवार के दिन किए जाने वाले कार्य – tasks For Wednesday 

बुधवार का दिन कला संबंधित कार्य करने के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है। बुधवार के दिन शुरू किए जाने वाले कार्य कुछ इस प्रकार से हैं।

– नृत्य सीखना वा सिखाना
– संगीत का कार्य
– लेखन से जुड़े कार्य
– चित्रकला
– शिल्प कला
– धरती से संबंधित कार्य
– निर्माण कार्य
– गृह प्रवेश
– शिक्षा संबंधित कार्य

बुधवार का दिन विवाह से संबंधित कार्य करने के लिए भी बहुत ही शुभ माना जाता है इस दिन वर-वधु की कुंडली मिलवाना भी बहुत ही शुभ माना जाता है।

बृहस्पतिवार के दिन किए जाने वाले कार्य – Task For Thursday 

कार्य शुरू करने के लिए बृहस्पतिवार का दिन सबसे शुभ दिन माना गया है। लेकिन इस दिन भी कुछ विशेष कार्य करने से उन में अत्यधिक सफलता मिलती है। जैसे कि :-

– मांगलिक कार्य
– धार्मिक कार्य
– आभूषणों से संबंधित कार्य
– अनुष्ठान
– नई शिक्षा का आरंभ करना
– ग्रह शांति
– कानूनी कार्य
– वस्त्र से संबंधित कार्य
– वृक्षों से संबंधित कार्य
– यज्ञ कराना

शुक्रवार के दिन किए जाने वाले कार्य – Task For Friday  

कला संबंधित कोई भी कार्य करने के लिए शुक्रवार का दिन बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिन जो कार्य किए जाने चाहिए वह कुछ इस प्रकार से है।

– नृत्य संबंधित कार्य
– गायन संबंधित कार्य
– चित्रकारी
– मेहंदी रचना
– मित्रता
– वस्त्र संबंधित कार्य
– प्रेम व्यव्हार
– सांसारिक कार्य
– मणि रत्न को धारण करना
– मणि रतन अथवा आभूषणों का निर्माण करवाना
– फिल्म व नाटक संबंधित कार्य
– शिक्षा संबंधित कार्य
– दुकानदारी चलाने का कार्य

शनिवार के दिन किए जाने वाले कार्य – Task For Saturday

शनिवार का दिन भगवान शनि को समर्पित है। इसीलिए शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या से मुक्ति पाने के लिए इस दिन विशेष रूप से उपाय किए जाने चाहिए। इसके इलावा शनिवार के दिन किए जाने वाले कार्य कुछ इस प्रकार से हैं।

– धातु संबंधित कार्य
– कल पुर्जों के कार्य
– व्यापार के लिए विचार करना
– वाहन खरीदना
– वास्तु संबंधित कार्य
– अस्त्र शास्त्र से संबंधित कार्य
– पत्रों से संबंधित कार्य

रविवार के दिन किए जाने वाले कार्य – Task For Sunday

रविवार के दिन सूर्य ग्रह का प्रभाव होता है। इसीलिए यह दिन मांगलिक कार्य करने के लिए अत्यंत शुभ माना जाता है।

– राज्य अभिषेक करना
– शपथ ग्रहण करना
– पद ग्रहण करना
– यात्रा आरंभ करना
– औषधि संबंधित कार्य
– अस्त्र शास्त्र का ज्ञान लेना
– युद्ध संबंधित कार्य
– पशु खरीदने
– नई नौकरी के लिए आवेदन करना

कोई भी शुभ कार्य करने के लिए सोमवार, बुधवार, बृहस्पतिवार और शुक्रवार को शुभ दिन माना गया है।

क्रूर कार्य करने के लिए मंगलवार और शनिवार का दिन अच्छा माना गया है।

रविवार का दिन शुभ तथा क्रूर दोनों ही तरह कार्य करने के लिए माना गया है।

किस दिन कौन से वर्ण का कार्य करें – Tasks According to Color of The Planets

किसी भी कार्य को उसके वर्ण के अनुसार करने के लिए उनके विशेष गृह, वर्ण व दिन नीचे दिए गए हैं

वर्ण गृह दिन
रक्त वर्ण सूर्य रविवार
गौर वर्ण चंद्रमा सोमवार
लोहित वर्ण मंगल मंगलवार
दूब वर्ण बुध बुधवार
पीत वर्ण गुरु गुरुवार
श्वेत वर्ण शुक्र शुक्रवार
कृष्ण वर्ण शनि शनिवार

यह भी पढ़े:

कालसर्प दोष कुंडली

क्यों जागें ब्रह्म मुहूर्त बेला में

पांच तत्व का अर्थ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

माँ दुर्गा के सभी रुपों की कथा

kuber

धन प्राप्ति के लिए कुबेर मंत्र