• mahabharat
    in ,

    महाभारत के 20 रहस्य

    Mahabharat Ke 20 Rahasya हिंदू धर्म की सबसे बड़ी गाथा, महाभारत(Mahabharat) उन कहानियों से भरी है जिनके पास एक व्यक्ति का जीवन उजागर करने की क्षमता है। अपने आंतरिक अर्थ से और प्रथाओं में इसके मूल्य से, महाभारत ने समाज के बीच अपनी संस्कृति विकसित की है। हालांकि, महाभारत में छिपे कई रहस्य हैं और […] More

  • vivah ke 7 vachan
    in

    भगवान शिव के द्वारा बनाये गये विवाह के सात पवित्र वचन – Adhyatam

    विवाह केवल दो परिवारों या इंसानों का मिलन नही है । विवाह दो आत्माओं का मिलन है । त्रिदेवो ने जब विवाह का बंधन बनाया तो इस बंधन को सुरक्षित रखने के लिए 7 वचन भी बनाये। जिन वचनों को विवाह के समय पति और पत्नी दोनों के द्वारा अग्नि को साक्षी मान कर बोला […] More

  • rashi mantr hindi
    in

    प्रत्येक कुंडली के लिए उनके विशिष्ट देवता के अनुसार मंत्र – राशी मंत्र

    kundali ke swami devta ke anusaar rashi mantr प्रत्येक राशि के लिए एक संरचित मंत्र को इस तरह तैयार किया गया है कि, जब सही ढंग से इसका उच्चारण किया जाता है, तो व्यक्ति की आध्यात्मिक ऊर्जा में विश्वव्यापी ऊर्जा का संचार होता है। विभिन्न मंत्रों में विभिन्न प्रकार के कंपन होते हैं। नतीजतन, विभिन्न […] More

  • GAYATRI Devi
    in

    गायत्री जयंती (GAYATRI JAYANTI) पर जरुर करे गायत्री मंत्र का जाप और चालीसा

    देवी गायत्री को सभी देवताओं की माता माना जाता है और देवी गायत्री को वेद माता के नाम से भी जाना जाता है गायत्री जयंती (GAYATRI JAYANTI) पर माता गायत्री जो सभी वेदों की माता और विश्व माता है उनकी पूजा की जाती है देवी गायत्री को त्रिदेवो अर्थात भगवान ब्रम्हा, विष्णु, और महेश के […] More

  • shani dev
    in

    Shani Dev Ji Ki Aarti in Hindi | आरती शनि देव जी की – Adhyatam

    Shri Shani Dev Ji Ki Aarti in Hindi जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी। सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी॥ जय जय श्री शनिदेव श्याम अंक वक्र दृष्ट चतुर्भुजा धारी। नीलाम्बर धार नाथ गज की असवारी॥ जय जय श्री शनिदेव क्रीट मुकुट शीश रजित दिपत है लिलारी। मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी॥ जय जय […] More

  • in

    Santoshi Mata Ji Ki Aarti in Hindi | आरती संतोषी माता जी की – Adhyatam

    Santoshi Mata Aarti in Hindi जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता ।। जय सन्तोषी माता…. सुन्दर चीर सुनहरी मां धारण कीन्हो। हीरा पन्ना दमके तन श्रृंगार लीन्हो ।। जय सन्तोषी माता…. गेरू लाल छटा छबि बदन कमल सोहे। मंद हंसत करुणामयी त्रिभुवन जन मोहे ।। जय सन्तोषी […] More

  • Brahma-Vishnu-mahesh
    in , , ,

    ब्रह्मा और विष्णु के बीच युद्ध – शिव पुराण के अनुसार

    brahma vishnu ke bich yudh ki katha (Brahma-Vishnu-mahesh) शिव पुराण अध्याय 6, 7 और 8 के विद्येश्वर संहिता में, कैलाश की यात्रा के बारे में बात की गई हैं। ब्रह्मा और विष्णु के बीच के युद्ध में पाशुपतास्त्र हथियार के उपयोग से देव भयभीत थे। शिव पुराण में बताया गया हैं कि कैसे शिव युद्ध […] More

  • Vishnu bhagvan
    in

    Bhagvan Vishnu Ji Ki Aarti in Hindi | आरती श्री विष्णु जी की – Adhyatam

    Lord Vishnu Aarti in Hindi भगवान जगदीश्वर की आरती ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे। भक्तजनों के संकट क्षण में दूर करे॥ ॐ जय जगदीश हरे जो ध्यावै फल पावै, दुख बिनसे मन का। सुख-संपत्ति घर आवै, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय जगदीश हरे मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी। तुम बिनु […] More

  • bhagvan ganesh
    in

    Bhagvan Ganesh Ji Ki Aarti in Hindi | आरती श्री गणेश जी की – Adhyatam

    Lord Ganesh Aarti in Hindi जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा । माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ एक दंत दयावंत चार भुजा धारी । माथे सिंदूर सोहे मूसे की सवारी ॥ जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा । माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा । […] More

  • Answer for bhagvan-ko-kyu-chdate-hai-paisa

    Bhagwaan ko paise ki jarurat nhi hoti..bhagwan ko yadi kisi chij ki jarurat hai to vo hai sirf or sirf sachi shardha.. haan mandiro ka kharcha chalane ke liye paiso ki jarurat hoti hai…hamara chadaya paisa mandir ke nirmaan, usse jude kharche, bhuko ka pet bharne(bhandare ke duvara) adhi upyogi kamo mein aate hai… Aisa […] More

  • hanuman
    in

    Bhagvan Hanuman Ji Ki Aarti | बजरंगबली की आरती – Adhyatam

    Bhagvan Hanuman Ji Ki Aarti Hindi Mein जय श्री राम | जय श्री राम | जय श्री राम | आरती कीजै हनुमानलला की, दुष्टदलन रघुनाथ कला की। जाके बल से गिरिवर कांपे, रोग दोष जाके निकट न झांपै। अंजनिपुत्र महा बलदायी, संतन के प्रभु सदा सहाई। दे बीरा रघुनाथ पठाये, लंका जारि सिया सुधि लाये। […] More

Load More
Congratulations. You've reached the end of the internet.