• in

    श्रावण मास में भगवान शिव की पूजा-अर्चना कैसे करें

    Bhagvan Shiv Shankar

    श्रावण मास का महिना भगवान शिव और उनके भक्तों के लिए बहुत ही खास होता है। इस माह के आरम्भ होते ही भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए उनके भक्त व्रत, पूजा पाठ, हवन आदि करते है। मंदिरों और पवित्र स्थलों में भी भगवान शिव शंकर के दर्शनों के लिए सभी भक्त जाते है। […]

  • in

    हनुमान जी को किस किस ने और कब वरदान दिये

    HANUMAN JI

    आज हम आपको बताने वाले है की हनुमान जी को किन किन देवी देवताओं ने और कोन कोन से वरदान और शक्तियाँ दी सबसे पहले हम जानते है हनुमान जी को वरदान देने के पीछे की कहानी। बाल्यकाल में एक बार जब हनुमान जी सूर्यदेव को फल समझकर खाने के लिए दौड़े तो घबराकर देवराज […]

  • in

    छोटा चार धाम और उनकी कथा

    chota-char-dham

    CHOTA CHAR DHAM भारत के उत्तराखंड में स्थित चार धाम को छोटा चार धाम(char dham) भी कहा जाता है। चार धाम स्थलों के छोटे सर्किट को बड़े सर्किट से अलग करने के लिए छोटा चार धाम कहा जाता है। उत्तराखंड राज्य के गढ़वाल मंडल में उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग और चमोली जिलों में स्थित है। इस क्षेत्र […]

  • in

    भगवान शिव की कितनी पत्नियां और संतानें है

    SHIV PARIVAAR

    BHAGVAN SHIV KI PATNIYAN AUR SANTANE भगवान शिव को भोले नाथ, भोला भंडारी आदि बहुत से नामों से भी जानते है क्योकि भगवान शिव बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते है और अपने भक्तों को वरदान देकर उनकी इच्छा की पूर्ति करते है। भगवान शिव ही एक ऐसे देवता है जो इस ब्रम्हांड की उत्पत्ति के […]

  • in

    चार धाम और उनकी कथा

    char-dham

    CHAR DHAM KA MAHATAV AUR KATHA भारत के चार धामों के बारे में यह मान्यता है की सतयुग में “बद्रीनाथ“ त्रेता में “रामेश्वरम“ द्वापर में “द्वारकाधीश“ और कलयुग में “जगन्नाथ पूरी“ ही अत्यधिक पावन धाम है। चार धाम भारत के चार तीर्थ स्थलों का एक तीर्थस्थान है। वैष्णव हिंदुओं का मानना ​​है कि इन स्थलों […]

  • in

    किन वरदानो के कारण भगवान को लेने पड़े अवतार

    shri krishan

    KIN VARDANO KE KARAN LIYE BHAGVANO NE AVTAR वरदान देवी और देवताओं के द्वारा किसी भी मनुष्य की कठिन तपस्या या भक्ति से प्रसन्न होकर दिये जाते है और ये वरदान मनुष्य के जीवन में सुख, समृद्धि और सिद्धियां देने में सक्षम हैं। अजर-अमर और अपनी सभी इच्छाओं की पूर्ति के लिए और स्वर्गलोक प्राप्त […]

  • in

    हथेली पर बने यह चिन्ह होते है भगवान शिव और विष्णु के आशीर्वाद का संकेत

    signs-on-palm

    Hatheliyon Per Bane Kuch Nishan (PALMISTRY) हस्तरेखा पढ़ना जन्मकुंडली और अन्य ज्योतिषीय उपकरणों की तरह किसी व्यक्ति के अतीत, वर्तमान और भविष्य का पता लगाने की एक पुरानी परंपरा है। हर व्यक्ति की हथेली में कुछ निशान होते हैं जिन्हें भगवान शिव और भगवान विष्णु का आशीर्वाद माना जाता है। इन निशानों के आधार पर […]

  • in

    जानिये संसार की सबसे बड़ी कला कोन सी है

    sbse badi kala

    SANSAAR KI SBSE BADI KALA हमारे हिन्दू ग्रंथों के अनुसार 84 लाख योनियों में भटकने के बाद मानव जन्म मिलता है और इसीलिए मानव योनी को संसार की सबसे बड़ी या शुभ कर्मों के द्वारा प्राप्त की गई योनी भी काहा जाता है। मानव जन्म बड़े ही पुण्यों के बाद मिलता है मानव ईश्वर के […]

  • in

    जानिये दुनिया का सबसे घातक विष कोन सा है

    kaan ke kacche log

    DUNIA KA SBSE GHATAK VISH जब भी हमसे विष के बारे में पुछा जाता है तो हमारे मन सबसे पहले उन चीजो की तरफ चला जाता है। जिनके बारे में हमने आज तक सुना हुआ होता है जैसे की विष की बात आते ही हमारा मन या तो साप के बारे में सोचने लगेगा या […]

  • in

    माता सती और उनके 51 शक्तिपीठों की कथा

    sati

    Mata Sati ke 51 Shaktipeeth वनवास के दौरान जब माता सीता का हरण रावण ने किया था और भगवान राम लक्ष्मण के साथ सीता माता की खोज कर रहे थे तब ये सब माता सती और शिवजी कैलाश पर्वत पर बैठे देख रहे थे। तभी सती माता ने शिव जी के सामने प्रश्न रखा के […]

  • in

    खाटू श्याम कैसे जा सकते है

    KHATU SHYAM

    KHATU SHYAM KAISE JAAYEN खाटू वाले श्याम बाबा का मंदिर राजस्थान के सीकर जिले के खाटू नगर में है वैसे तो जो भी भक्त सच्चे मन से खाटू श्याम बाबा से मिलने की कामना करता है खाटू वाले बाबा उसको अपने अपने पास बुलाने का इन्तेजाम अपने आप ही कर देते है खाटू श्याम जाने […]

  • in

    नृसिंह चतुर्दशी व्रत कथा एवं पूजा विधि

    narasimha avtaar

    Narsingh Chaturdashi Vrat & Pooja Vidhi हिन्दू धर्म ग्रंथो के अनुसार वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को भगवान विष्णु ने नृसिंह अवतार लेकर दैत्यों के राजा हिरण्यकशिपु का वध किया था।  इसलिए इस तिथि को नृसिंह चतुर्दशी के नाम से जानते हैं। इस दिन भगवान विष्णु के नृसिंह अवतार को प्रसन्न करने के […]

Load More
Congratulations. You've reached the end of the internet.