in , , , ,

ग्रहो क़ो शांत करने के उपाए:

Grahshanti Ke Upaye
आज इस पोस्ट में हम आपको ऐसे उपायों के बारे में बताने जा रहे है जिन्हे करने से न तो आपका समय बर्बाद होगा और न ही पैसा।
आपको अपने जीवन में छोटे छोटे से बदलाव लाने है जिससे आपके ग्रह प्रसन्न होंगे और आप जीवन में उन्नति की तरफ अग्रसर होंगे

navgrah

प्रत्येक ग्रह जीवन के एक अलग हिस्से, एक अलग ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है। ज्योतिष शास्त्रों में ग्रहो की शुद्धता बढ़ाने के लिए बहुत से उपाए बताये गए। अगर आप अपने जीवन में नीचे दिए गए कार्यो को करना शुरू कर देंगे तो आपके ग्रह मजबूत हो जायेगे और आप जीवन में सफलता की और अग्रसर रहेंगे।

सूर्य:

सूर्य हमारे सौर मंडल का राजा कहलाता है। सूर्य अपनी जगह पर रहता है दूसरे ग्रह उसके आस पास चक्कर लगाते है इसलिए सूर्य पावर, नेतृत्व, ईमानदारी और सत्यनिष्ठा का प्रतिनिधित्व करता है। जिस तरह सूर्य समय पर उदय होता और समय पर अस्त होता है उसी तरह सूर्य उन लोगो का प्रतिनिधित्व करता है जो समय के पाबंद होते है ।

अगर व्यक्ति अपने वचनो पर पक्का रहता है काम को कल पर नहीं टालता उस व्यक्ति का सूर्य कभी खराब नहीं हो सकता। अगर आपका सूर्य खराब है तो आप अभी से अपना काम समय पर करना शुरू कीजिये यदि आप किसी व्यक्ति से मिल रहे है तो उनसे अच्छे से बात कीजिये। जिस तरह सूर्य सारे संसार को ऊर्जा देता है उसी तरह आप भी अपनी बातों से दुसरो के जीवन को ऊर्जावान कीजिये। आप किसी काम के लिए हाँ करते है तो वह काम जरूर कीजिये अगर आप नहीं कर सकते तो साफ़ मना कीजिये। ये सब करने से आपका सूर्य बहुत शक्तिशाली हो जायेगा।

चन्द्रमा:

चाँद के ऊपर बहुत से गाने बने है जैसे चाँद सा रोशन चेहरा, चौदवी का चाँद हो। चन्द्रमा प्रतिनिधित्व करता है शान्ति, प्यार, कल्पना, हमारी भावनाये। चाँद कभी घटता है कभी बढ़ता है इसी तरह हमारी भावनाये भी होती है कभी हमारा मन बहुत अच्छा होता है कभी हमारा मन बहुत खराब होता है

चन्द्रमा का सीधा सीधा सम्बन्ध माँ से होता है अगर आप अपनी माँ की इज्जत करेंगे उनसे प्यार से बात करेंगे तो आपका चन्द्रमा मजबूत बनता है। बड़े बुजुर्गो की सेवा करे, दूसरे व्यक्ति की भावनाओ की कदर करे अगर आप ऐसा करना शुरू कर देंगे तो आपका चन्द्रमा मजबूत होगा लोग आपका नाजायज फायदा नहीं उठा पाएंगे, आप में आत्मविश्वास बढ़ेगा।

वैज्ञानिको के अनुसार चाँद पर पानी मिलने के संकेत दिखाई दिए गए है इसीलिए आप पानी व्यर्थ में बहाते है तो भी आपका चन्द्रमा कमजोर बनता है। पानी को व्यर्थ न बहाये जितना पानी पीना है उतना ही ले, जितना नहाने के लिए चाहिए उतने से ही नहाये।

मंगल:

हम सब जानते है की मंगल का अर्थ होता है की “सब अच्छा हो” हम आशीर्वाद देते है तो बोलते है “मंगलमय हो शुभमंगल”। जिस व्यक्ति का मंगल अच्छा होता है उस व्यक्ति के जीवन में गति होती है। वह व्यक्ति हर काम को जल्दी करता है। अगर वह कोई भी काम करने की सोचता है तुरंत उस काम को खत्म करता है चाहे वह घर का काम हो या फिर नौकरी से सम्बन्धित कोई भी कार्य।

अगर आप किसी काम को करने में टाल-मटोल करते है जैसे अरे अभी करता हु! रुको अभी व्यस्त हु! अरे करता हु न थोड़ी देर तक! इसका मतलब है के आपका मंगल कमजोर है। अगर आपका मंगल कमजोर है तो आपको आपके काम का फल नही मिलेगा। आपके पास शमता होगी लेकिन आपको उस काम में उन्नति नहीं मिलेगी।

मंगल को अच्छा करना है तो आपको नकारात्मक शब्द का उपयोग नहीं करना चाहिए। ना शब्द का इस्तेमाल न करे गुस्से में किसी को भी अपशब्द न बोले। आपको पता होना चाहिए के आपको कब क्या बात बोलनी है। अगर आप अपनी वाणी पे नियंत्रण रखेंगे तो आप खुद अपने जीवन में बदलाव देखेंगे। किसी भी कार्य करने में आलस न करे। ये छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखे और आपका मंगल मजबूत हो जायेगा।

यह भी पढ़े: क्यों लेने पड़े भगवान् क़ो अवतार

बुध:

बुध का अर्थ है “बुद्धि” बुध सबसे तेज़ गति वाला ग्रह माना जाता है। क्योंकि ये बहुत जल्दी ही सौरमण्डल का चक्कर काट लेता है।
अगर आपका बुध कमजोर है तो आप सामने वाले इंसान की पूरी बात सुने बिना ही प्रतिक्रिया कर जायेगे एक दम गुस्सा कर जाय्रेगे और कुछ ही क्षण पश्चात पश्चाताप करेंगे के अरे मैंने ऐसे क्यों बोल दिया। अगर आपको अपना बुध शक्तिशाली करना है तो आपको अपनी बातचीत के तरीके में सुधार लेकर आना पड़ेगा।

बुध ग्रह का रंग होता है “हरा”। बुध ग्रह क़ो हरियाली पसंद है। अगर आपको जीवन में इच्छा है के मेरा जल्दी से काम हो जाये तो आपको अपने आस पास पेड़ पौधे लगाने चाहिए। जैसे जैसे पेड़ बढ़ेगा वैसे वैसे आपकी बुद्धि बढ़ेगी और आपकी चीज़ो को समझने की क्षमता बढ़ेगी।

बुध का सम्बन्ध होता है बच्चो से। अगर आपको कही पर भी छोटे बच्चे मिल जाए तो उन्हें कुछ न कुछ खाने का जरूर दे ऐसा करने से आपका बुध बहुत शक्तिशाली हो जायेगा।

बृहस्पति:

बृहस्पति हमारे सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह माना जाता है। हम देखते है जो लोग अपना बृहस्पति शक्तिशाली बनाना चाहते है वह लोग अपने हाथ की सबसे पहले वाली ऊँगली में पुखराज पहनते है। नग हमारे जीवन पर तभी असर करेंगे जब हम खुद के अंदर बदलाव लाएंगे।

बृहस्पति ग्रह बड़ा ग्रह होता है इसलिए यह बड़े बुजुर्गो का प्रतिनिधित्व करता है। यदि आप अपने से बड़ो की इज्जत करनी शुरू कर दे तो आपका बृहस्पति बहुत शक्तिशाली हो जायेगा। हमे हर उस इंसान की इज्जत करनी चाहिए जिसके जैसा हम बनना चाहते है। जो हमारे जीवन में प्रेरणादायक है।
जब तक आप अपने जीवन में अंदर से बदलाव नहीं लाएंगे तब तक नग भी आपके जीवन को नहीं बदल सकते। बृहस्पति को शक्तिशाली करने के लिए सबसे जरूरी है विनम्रता यदि आप अपने से बड़ो के साथ विनम्रता से पेश आएंगे तो आपका यह ग्रह भी स्ट्रांग बन जायेगा। जैसे आपके गुरुजनो, आपके माता-पीता हर वो व्यक्ति जिससे आपने अपनी ज़िन्दगी में कुछ न कुछ सीखा हो।

शुक्र:

शुक्र ग्रह प्रतिनिधित्व करता है ‘ख़ुशी, आनंद, शान शौकत। शुक्र ग्रह प्रतिनिधित्व करता है “औरत” को। शुक्र ग्रह अच्छा होने पर लोग आपकी तरफ आकर्षित होते है।
औरतो की इज्जत करने से शुक्र ग्रह अच्छा होता है। आज के समय में लोग बड़ी आसानी से किसी भी महिला के बारे में गलत बोलते है उनके चरित्र को लेकर तरह तरह की बाते बनाते है। अगर आपको अपना शुक्र मजबूत करना है तो अपने आस पास जितनी भी महिलाये है उनकी इज्जत करे।
शुक्र ग्रह को मजबूत बनाने के लिए अपनी पत्नी को सौंदर्य सामग्री उपहार में दे।

शनि:

शनि सूर्य के चक्कर लगाने में १९ वर्ष का समय लेता है इसीलिए इन्हे धीमा ग्रह कहाँ जाता है। शनि धीरे-धीरे चक्कर लगाता है तो वहां पर सूर्य का प्रकाश कम रहता है इसीलिए शनि ग्रह पर अँधेरा ज्यादा रहता है। इसी तरह हमारी कुंडली में भी जब शनि की दशा चलती है तो जीवन में अँधेरा आ जाता है। जिस तरह घर में अँधेरा होने पर हम लोग फूंक फूंक कर कदम रखते है उसी तरह हमे जीवन में फूंक फूंक कर कदम रखने चाहिए जो भी फैसला लेना चाहिए सोच समझ कर लेना चाहिए। शनि को न्याय का देवता भी कहाँ जाता है अगर आप न्याय पूर्ण फैसले लगे तो शनि मजबूत होगा।
उसी तरह आप शनि पर काली दाल और तेल अर्पित करते है कोई भी धर्म ये नहीं कहता के आप खाने की चीज़ो को खराब करो। आप धार्मिक आस्था के नाम पर थोड़ा अर्पित कर सकते हो लेकिन आप उस दाल से किसी गरीब की भूख मिटाओगे तो शनि देवता प्रसन्न होंगे और आपका शनि मजबूत बनेगा।

यह भी पढ़े: शनि चालीसा

राहु:

राहु को मजबूत करने के लिए हमे अपनी सोच अच्छी करनी चाहिए। अगर हम दुसरो की तरक्की से जलना छोड़ दे तो हमारा राहु मजबूत हो जायेगा। जितना आप लोगो के बारे में नकारात्मक सोच कम रखेंगे उतनी ही आपकी ज़िन्दगी में सकारात्मकता आएगी। जब हम किसी व्यक्ति के बारे में नकारात्मक बोलते है तो उस व्यक्ति के जीवन के दुःख हमारे जीवन पे नकारात्मक असर करने लग जाते है। अगर आप किसी के बारे में अच्छा नहीं बोल सकते तो किसी के बारे में बुरा भी मत बोले ऐसा करने से आपका राहु बहुत अच्छा हो जायेगा।

यह भी पढ़े: सकारात्मक ऊर्जा के लिए मंत्र

केतु:

राहु और केतु का नाम आते ही हम लोग डर जाते है लेकिन कोई भी ग्रह या कोई भी भगवान् हमे दुःख नहीं देते। ये हमारे द्वारा किये गए बुरे कर्म होते है जिनका हमे परिणाम भुगतना पड़ता है। हम किसी के साथ बुरा करे ऐसा नहीं हो सकता के हमारे साथ अच्छा हो।

केतु का अर्थ है “भूतकाल”। जब केतु की दशा आती है तब हमे भूतकाल के बारे में ज्यादा सोचते है के मैंने उसको गलत क्यों बोला या उस व्यक्ति ने मेरे साथ गलत क्यों किया। केतु क़ो मजबूत करने के लिए हमे भूतकाल के बारे में सोचना बिलकुल छोड़ देना चाहिए।

केतु का एक अर्थ होता है “जीत”। पुराने समय में झंडे को जीत का प्रतिक माना जाता था।
अगर आप जीवन में जीतना चाहते है तो आपको अपने भूतकाल को भुला देना होगा उसे छोड़ देना होगा और अपने आने वाले कल के बारे में सोचन होगा झंडे की तरह तरक्की की ऊंचाई को छूना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

करवा चौथ व्रत कथा