in ,

हिंदू धर्म (Hinduism) के बारे में सबसे रोचक तथ्य आप भी जाने

Most Interesting Facts About Hinduism In Hindi

हिंदू धर्म (Hinduism) दुनिया का सबसे पुराना ज्ञात धर्म है। दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा धर्म हिंदू धर्म है, और मूल रूप से सनातन धर्म के रूप में जाना जाता है। इसकी जड़ें 10,000 साल से भी ज्यादा पुराणी है। और हिंदू शास्त्र 7000 ईसा पूर्व से भी पहले से समस्त संसार में ज्ञान का परकाश बांटते आ रहे है।

 

हिंदू धर्म में 108 को सबसे पवित्र संख्या माना जाता है

सूर्य की पृथ्वी से दूरी व सूर्य का व्यास या चंद्रमा की पृथ्वी से दूरी व चंद्रमा के व्यास का अनुपात 108 है। इसी लिए हमारी अधिकांश प्रार्थना मोती मालाओ में 108 मोती होते हैं।

 

हिंदू धर्म के बारे में कुछ दिलचस्प तथ्य (Hindu dharam ki rochak batein)

tridev

हिंदू धर्म ही एकमात्र ऐसा धर्म है जो अभी भी पूरी तरह से वर्णित नहीं किया जा सकता है। हिंदू धर्म एक अनीश्वरवादी धर्म है और साथ ही यह अनेक देवताओं में विश्‍वास रखने वाला भी है। इसी के विपरीत यह एकेश्वरवादी भी है। इसमें एक प्रमुख भगवान में विश्वास रखने के साथ-साथ अन्य सहायक देवताओं की पूजा भी की जाती है।

अन्य प्रमुख धर्मों के विपरीत, हिंदू धर्म धन प्रापति की इच्छा को पाप नहीं समझता

वास्तव में हम लक्ष्मी, कुबेरा और विष्णु जैसे कई देवताओं की धन के रूप में पूजा करते है। हिन्दू धर्म को चार विशेष अनुक्रम में विभाजित किया जाता है।

धर्म (Dharm) = धर्म और समाज के लिए कर्तव्यों का पालन करना।
अर्थ (Arth) = आजीविका, धन और शक्ति के लिए करए करना।
काम (Kaam) = यौन/कामुक सहित सभी सुखो की प्राप्ति करना।
मोक्ष (Moksh) = मोक्ष का अर्थ है मुक्ति।

Hinduism kuber lakshmi

इन अनुक्रम में हम ऊपर से लेकर निचे तक प्रगति ही करते है। और इसी कारण से हिंदू प्राकृतिक रूप से पूंजीपति होते हैं।

हिंदू धर्म ही एकमात्र धर्म है जो प्रारंभिक युग से समर्थक विज्ञान है।

हिंदू धर्म ग्रंथों में कुछ हैरान कर देने वाली प्रगतियां थीं जैसे की :

गणित (Mathematics):

खोज इंजन हैशिंग एल्गोरिदम (Search Engine Hashing अल्गोरिथ्म्स), शून्य की अवधारणा (Concept of zero), संगीत विज्ञान, पाइथागोरस प्रमेय, अनंतता की अवधारणा (concept of Infinity) और दशमलव संख्या प्रणाली की अवधारणा (Decimal Number System)।

क्रमागत उन्नति (Evolution):

bhagwaan vishnu ke awtaar

 

विष्णु पुराण के मुताबिक हजारों साल पहले भगवान् विष्णु ने दशवतरम के रूप में विकास को समझ लिया था। यह क्रमागत उन्नति मत्स्य (मछली) के साथ शुरू होती है और फिर कछुआ (कुर्मा) – उभयचर के पास आती है। अगला अवतार वरहा है- जो की पहले स्तनधारी का प्रतीक है। अगला नरसिम्हा (नर-शेर) है – जो मानव सदृश और स्तनपायी के बीच में है। इसके बाद, वामन (बौना) – प्रारंभिक छोटे कद का मानव, और फिर परशुराम (कुल्हाड़ी वाला आदमी) आता है – पहले शिकारी-समूह का प्रतिनिधित्व करता है।

ब्रह्मांड विज्ञान (Cosmology:

हिन्दू धर्म में बिग बैंग सिद्धांत का उल्लेख ऋग्वेद के रूप में किया जाता है।

आयुर्वेद (medicine):

आयुर्वेद को चीनी, ग्रीक, रोमन और फारसी छात्रों को भी सिखाया गया था। जिन्होंने पाकिस्तान में ताकशिला और भारत में नालंदा के रूप में महान भारतीय विश्वविद्यालयों में 700 ईसा पूर्व अध्ययन किया था।

अन्य सभी प्रमुख धर्मों के विपरीत, हिंदू धर्म का कोई संस्थापक नहीं हैं।

 

हिंदू धर्म के बारे में कुछ अन्य रोचक तथ्य

  • – हिंदू धर्म में धर्म परिवर्तन की कोई अवधारणा नहीं है। विश्वास के बाद सभी लोग या तो स्वेच्छा से इसे गले लगाते हैं या जन्म के आधार पर इसका हिस्सा बनते हैं।
  • – विवाह की परिकल्पना हिन्दू धर्म दुवारा ही समाज में लाइ गईं थी।
  • – हिंदू मंदिर केवल वास्तुकला के चमत्कार ही नहीं हैं, बल्कि वे ऊर्जा केंद्र भी हैं और महान वैज्ञानिक महत्व भी रखते हैं जो की साबित भी हो चूका है। निर्माण कार्यो में धातुओं का प्रयोग सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है।
  • – हिंदू धर्म कई वर्षों से विशेष रूप से नेपाल, बांग्लादेश, म्यांमार, मलेशिया, कंबोडिया, इंडोनेशिया, थाईलैंड और अन्य दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में फैल रहा है।
  • – हिन्दू धर्म ने समाज में सुधार लाने के लिए बहुत बार बहुत सी प्रथाओ जैसे की सती प्रथा का अंत किया है।
  • – योग, दुनिया का सबसे प्रचलित आध्यात्मिक और शारीरिक शक्ति का रूप है। जो की 5000 साल पहले सिंधु-सरस्वती सभ्यता में हिंदू धर्म से निकला था।
  • – हिंदू ब्रह्मांड विज्ञान में यह माना जाता है कि ब्रह्मांड प्रत्येक 4.32 अरब वर्षों में नष्ट और पुनः बनाया जाता है। दिलचस्प बात तो यह है कि यह अवधि पृथ्वी की वर्तमान वैज्ञानिक आयु के काफी करीब है।
  • – जे रॉबर्ट ओपेनहाइमर (को परमाणु बम का पिता माना जाता है) ने 1933 में संस्कृत सीखी और पवित्र हिंदू पुस्तक भगवद् गीता का अध्यन किया। उन्होंने अपने संस्कृत ज्ञान का उपयोग वेदों और प्राचीन लिपियों को समझकर Manhattan Project में किया।

 

यह भी पढ़े : शनि की ‘साढ़े-साती’ दशा में सफलता पाने का रहस्य

 

अंत में, हिंदू धर्म हमें यह सिखाता है

लोका समस्ता सुखिनो भवन्तु !!!

ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः !!!

 

‘Loka Samastha Sukino Bhavantu.
Om Shanti, Shanti, Shanti,

 

सभी दुनिया में सभी प्राणि सदैव खुश रहें।

शांति, शांति और शांति ही हर जगह बनी रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

SHANI DEV

शनि की ‘साढ़े-साती’ दशा में सफलता पाने का रहस्य

LIFE CHANGING FACTS GAUTAN BUDDHA

जीवन में सफलता पाने के लिए क्या जरुरी है जाने गौतम बुध (GAUTAM BUDDHA)के विचारो के द्वारा