in , , ,

ग्रहो की विस्तृत व्याख्या और उनके हमारी कुंडली में प्रभाव और दुष्प्रभाव

NAV GRAH KUNDLI PRABHAV

Contents

1. सूर्य:

सूर्य सभी ग्रहों के राजा हैं। वास्तव में, सूर्य एक ग्रह नहीं है यह एक तारा है यह अपने स्वयं के प्रकाश से प्रकाशित होता है। हालांकि ज्योतिष शास्त्रों में, सूर्य को एक ग्रह माना जाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं में, हम इसे भगवान विष्णु कहते हैं जो ब्रह्मांड के स्वामी हैं।

surya-dev
पृथ्वी पर जीवन के लिए सूर्य ग्रह महत्वपूर्ण है। इसका प्रकाश पौधों में कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करने और बदले में इंसानो को ऑक्सीजन देने में मदद करता है जो मानव मधुमक्खियों और पृथ्वी पर कई अन्य जीवन रूपों के लिए आवश्यक है। इसकी किरणें हानिकारक जीवाणुओं को नष्ट करती हैं और यह किसी व्यक्ति की प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाती है।

सूर्य के कारक:

आत्मा, सरकारी नौकरी, स्वयंशक्ति, सम्मान, सूर्य पिता, स्वास्थ्य, शक्ति, साहस, राजाओं की शाही कृपा, उच्च स्थिति, गर्मी, चिकित्सा, पहाड़, वन, दाहिनी आंख,का करक ग्रह है।

सूर्य पावर और अधिकारों का प्रतिनिधित्व करता है और इसलिए यह सभी सरकारी प्राधिकरणों, सत्ता के पदों से संबंधित है, जो लोग राष्ट्रपति, प्रधान मंत्री, संसद के सदस्यों और सरकार के अध्यक्ष बनना चाहते है।

शक्तिशाली सूर्य वाले लोग हमेशा जिस भी क्षेत्र में काम करने की सोचते है उसमे सफलता प्राप्त करते है। वे किसी के तहत काम नहीं करते वे अपना व्यवसाय करना ज्यादा पसंद करते है।

शक्तिशाली सूर्य के प्रभाव:

सूर्य हमारी आत्मा का भी प्रतिनिधित्व करता है और इसलिए शक्तिशाली सूर्य के साथ एक अच्छी आत्मा है, अच्छे सूर्य वाला व्यक्ति हमेशा अच्छा काम करता है और वह हमेशा दूसरों की सहायता करता है।
सूर्य निडरता, कमांडिंग क्षमता, प्रसिद्धि, पद, गरिमा, जीवन शक्ति, खुशी, शाही उपस्थिति, आशावाद, शक्ति, सफलता, अच्छा स्वास्थ्य, गर्मी, स्नेह, अच्छा स्वभाव, बड़ों का सम्मान, सरकार के लिए सम्मान, धन देता है। अच्छे सूर्य वाला व्यक्ति उदार, गरीब और प्रतिभाशाली के प्रति सहानुभूति रखता है।

कमजोर सूर्य के प्रभाव:

दूसरी ओर एक कमजोर सूर्य वाला व्यक्ति बहुत लालची, आत्म-केंद्रित और घमंड करने वाला स्वभाव का हो सकता है और उसकी कुंडली में सूर्य की स्थिति के आधार पर उसे कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।
कुंडली में कमजोर सूर्य जातक को घमंडी, क्षुद्र, चिड़चिड़ा, ईर्ष्यालु, क्रोधी स्वभाव्, अनैतिक बनाता है ।। वह अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करने की संभावना रखता है।

सूर्य अच्छा होने पर व्यवसाय:

प्रशासक, राजनेता, सरकारी नौकरी, जौहरी, चिकित्सा के अभ्यास से संबंधित व्यवसायों, अर्थशास्त्री, शासक वर्ग, मजिस्ट्रेट, ऊन में डीलर, वन अधिकारी, फोटोग्राफर और डिजाइनर, सफ़ेद चीज़ो का काम जैसे दूध का व्यवसाय, चावल का व्यवसाय, आदि।

सूर्य हमें जीवन शक्ति और प्रतिरोधक प्रदान करता है। यह हमारी शारीरिक शक्ति और शरीर के संविधान को निर्धारित करता है। सूर्य को जीवन शक्ति, बुद्धि, तेज, समृद्धि और सांसारिक मामलों में सफलता का दाता माना जाता है। यह हमारी महत्वाकांक्षाओं और प्रसिद्धि से भी संबंधित है।

यह भी पढ़े: mahamrityunjay mantra ka arth

2. चन्द्रमा:

पृथ्वी पर जीवन हमारे सौर मंडल में उपस्थित दो सबसे ताकतवर ग्रहो के कारण है- सर्वशक्तिमान सूर्य और शांतिपूर्ण शांत चंद्रमा। सूर्य आत्मा और चंद्रमा भावनाओं को नियंत्रित करता है। इन दो प्रकाशकों के बिना पृथ्वी पर कोई जीवन नहीं होगा। ज्योतिषीय रूप से, चंद्रमा मानव में मानसिक और भावनात्मक शक्ति को दर्शाता है। ज्योतिशीज्ञ के अनुसार चन्द्रमा सामने वाले के प्रति हमारी भावनाओ को दर्शाता है

chandr

वैदिक ज्योतिष में चंद्रमा को चंद्रा कहा जाता है। संस्कृत में चंद्रा का अर्थ है “उज्ज्वल और चमकदार”।

चंद्रमा को सौर मंडल की रानी माना जाता है। ज्योतिष की वैदिक प्रणाली के अनुसार, चंद्रमा मानसिक शक्ति और समृद्धि देने में सक्षम है। जीवन में समृद्धि का सीधा संबंध जन्म कुंडली में चंद्रमा से बृहस्पति या अन्य लाभकारी ग्रहों के साथ होता है। बृहस्पति धन का दाता है। इन दोनों ग्रहों का मेल विशेष रूप से धन और समृद्धि के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है।

चंद्रमा प्रेम और सुंदरता का प्रतिनिधित्व करता है। कवियों ने चंद्रमा की सुंदरता पर बहुत कुछ लिखा है और उनकी कविताओं में चंद्रमा के साथ महिला की सुंदरता की तुलना की है।

यद्यपि चंद्रमा ग्रहों के बीच सबसे छोटा है, लेकिन पृथ्वी के साथ निकटता के कारण, पृथ्वी पर मनुष्य पर उसका अत्यधिक प्रभाव है।

सूर्य और चंद्रमा को ब्रह्मांड की दो आंखें माना जाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं में चंद्रमा इतना महत्वपूर्ण और शुभ है कि महिलाएं रात में चंद्रमा को देखने के बाद अपना उपवास तोड़ती हैं। कुछ विशेष व्रत सीधे चंद्रमा से संबंधित हैं।

चन्द्रमा के कारक:

चन्द्रमा जल, मन, माता, मानसिकस्थिति, मनोबल, मन की प्रसन्नता, छाती, दिमागी परेशानी, महिलाओ में मासिक धर्म, तरल प्रदार्थ आदि का कारक ग्रह है।

जल चंद्रमा का तत्व है। चंद्रमा और सूर्य के गुरुत्वाकर्षण बल के कारण महासागरों में ज्वार आता है। चंद्रमा का अपना कोई प्रकाश नहीं है। वह पृथ्वी पर सूर्य के प्रकाश को दर्शाता है। चंद्रमा माँ का प्रतिनिधित्व करता है क्योंकि वह धरती पर एक माँ के रूप में जीवन का पोषण करती है।

शक्तिशाली चन्द्रमा के प्रभाव:

सकारात्मक चंद्रमा जीवन में खुशी, उत्साह और मन की शांति को बढ़ाता है।यह मन की कार्यक्षमता से जुड़ा है। चंद्रमा मन की शक्ति और बहुमुखी प्रतिभा को नियंत्रित करता है। यह ठंड की बीमारियों के खिलाफ ध्यान, एकाग्रता और प्रतिरोध की शक्ति प्रदान करने में मदद करता है।

शक्तिशाली चन्द्रमा वाला व्यक्ति माता के सुख से परिपूर्ण रहता है। वह माता, और सामान्य रूप से महिलाओं, जनता, सामान्य भलाई और खुशी, स्त्रीत्व और सौंदर्य, दृष्टि, स्मृति और मन का संकेतक है।

कमजोर चन्द्रमा के प्रभाव:

कमजोर चन्द्रमा वाले व्यक्ति को छाती से जुडी बीमारियां रहती है मन परेशान रहता है अगर चन्द्रमा बहुत ज्यादा खराब हो तो व्यक्ति मानसिक रोग का भी शिकार हो जाता है। खराब चन्द्रमा वाला व्यक्ति माता के सुख से वंचित रहता है। पीड़ित चंद्रमा तनाव, अवसाद, आत्मघाती प्रवृत्ति और निराशावादी रवैये का कारण बनता है।

कमजोर चंद्रमा के कारण सर्दी, खांसी, बुखार, आंख, व्याधि, चर्मरोग, लकवा, मिर्गी, हिस्टीरिया, शूल पीड़ा, बेरीबेरी, आंतों के विकार, गले में तकलीफ, ब्रोंकाइटिस, पेचिश, न्यूरोसिस, टाइफाइड होता है।

जो भी चंद्रमा को प्रभावित करता है, हमारे दिल और भावनाओं को गहराई से प्रभावित करता है।

चन्द्रमा अच्छा होने पर व्यवसाय:

चन्द्रमा अच्छा होने पर सफ़ेद चीज़ो से जुड़ा व्यवसाय सोच सकते है जैसे: दूध का, चावल का, पानी का, आटे का आदि। नर्सिंग, इम्पोर्ट/एक्सपोर्ट, यात्रा आदि व्यवसाय कर सकते है।

3. मंगल:

मंगल को पृथ्वी का पुत्र कहा गया है। ग्रहो के कुटुम्ब में रवि पृथ्वी के पिता के स्थान में है और चन्द्रमा माता के स्थान में है। इसलिए मंगल में रवि और चन्द्रमा दोनों के गुणों का थोड़ा थोड़ा मिश्रण है।

mangal

मंगल का स्थान अग्नि का कहाँ गया है। सिर्फ आँखों से देखा जाए तो यह ग्रह अग्नि के समान लाल दिखाई देता है। यह स्वभाव से उग्र और पुरुष ग्रह माना जाता है। कुंडली में ग्रह मंगल साहस और आत्मविश्वास को नियंत्रित करता है। युद्ध भूमि में मंगल का निवास होता है जिसका मंगल प्रभल होता है युद्ध भूमि में उन्ही की विजय होती है।

आरोही में मंगल व्यक्ति को युवा दिखता है। मंगल के अन्य गुण, यदि अनुकूल हैं, तो जीवन के सभी क्षेत्रों में ऊर्जा, प्रशासनिक कौशल, दृढ़ संकल्प हैं। यदि यह प्रतिकूल रूप से प्रस्तुत किया जाता है तो यह आक्रामकता और क्रोध देता है और जीवन में बाधा उत्पन्न करता है।

कारक:

मंगल साहस, वीरता, शौर्य, शक्ति, प्रॉपर्टी, वैज्ञानिक डॉक्टर्स, पुलिस, सेना, उच्च रक्तचाप, ऑपरेशन, गर्भपात, जलना, भूमि, दुर्घटनाओं आदि का कारक है।

शक्तिशाली मंगल के प्रभाव:

ऐसे लोग साहसी, चिड़चिड़ा स्वभाव, मौके पर न डरनेवाला, खर्चीला, दिमाग लगा कर काम बनाने वाला, लोगो का कल्याण सोचने वाला, प्रयत्नशील, प्रेमी, बेफिक्र, धैर्यवान, दुसरो की बातो में न आने वाला, व्यवहार में सरल, सत्यवान, नियमो का बारीक से पालन करने वाला, दूसरी स्त्रियों से दूर रहने वाला, अनाथ दीन स्त्रियों का रक्षक, देश की रक्षा के लिए जान की बाजी लगा देना वाला, अपनी पत्नी के अधीन, आगे की फ़िक्र न करने वाला, वाद विवाद में हार न मानने वाला, लोगो को अच्छी दिशा में प्रेरित करने वाला, जिस व्यक्ति की कुंडली में मंगल शक्तिशाली हो वह स्त्रियों की इज्जत की रक्षा के लिए जान की बाजी भी लगा सकते है।

कमजोर मंगल के प्रभाव:

कुंडली में चंद्र या शुक्र के सम्बन्ध से मंगल दूषित होता है। कुंडली में जिस व्यक्ति का मंगल दूषित हो वह स्त्रियों को गलत रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करते है, अति कामुक, अपना काम निकलवाने के लिए गलत तरीके अपनाते है, क्रोधी, लड़ाई झगडे था किसी का खून भी कर सकते है, लोगो से पैसा लूट कर मौज में उड़ाते है, स्त्री को कष्ट देने वाले, दुसरो की निंदा करने वाले, दुसरो को बुरा भला कह कर खुद कुछ भी न करने वाले, झगड़ालू प्रवृति, स्वार्थी, आलसी, एकांतप्रिय, दुसरो को निरुत्साही करने वाले।

मंगल अच्छा होने पर व्यवसाय:

मंगल सैन्य, सैनिकों, योद्धाओं, बिल्डरों, इंजीनियरों और रियल एस्टेट व्यवसाय का प्रतिनिधित्व करता है। प्रसिद्ध सर्जन भी अपनी कुंडली में मंगल की अच्छी स्थिति रखते हैं।

पुलिस, इंस्पेक्टर, बीड़ी सिगरेट के कारखाने, मोटर या उसके स्पेयर पार्ट के विक्रेता, अस्त्र-शास्त्र के विक्रेता, पेट्रोल, माचिस का कारखाना, फायरब्रिगेड, सुनार, लुहार, होटल, कुर्सी, पीतल, कपूर के कारखाने, सैन्य और अर्ध सैन्य विभाग भी मंगल के प्रभाव में आता है। यह तकनीकी और इंजीनियरिंग क्षेत्र को भी नियंत्रित करता है और अच्छे मंगल वाले व्यक्ति के पास तकनीकी दिमाग होने के उत्कृष्ट गुण होते हैं।

लड़की और लड़के की शादी में मंगल बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वैदिक ज्योतिष में मांगलिक दोष बहुत प्रसिद्ध है। इसलिए, शादी के प्रस्ताव को अंतिम रूप देने से पहले लड़के और लड़की दोनों की कुंडली का मिलान किया जाता है। इस दोष के कारण व्यक्ति के मार्शल जीवन में बाधा, टूट, विवाद और यहां तक ​​कि तलाक हो सकता है।

4. बुध:

budh

ज्योतिष शास्त्र में, बुध (mercury) देवताओं का संदेशवाहक है। बुध सूर्य का निकटतम ग्रह है। भारतीय परंपरा में बुध ग्रह को बुद्धि का प्रदाता कहा गया है। बुध ग्रह के लक्षण की बात करें तो यह व्यक्ति में बुद्धि, विवेक, हाज़िरजवाबी और हास्य–विनोद का प्रतिनिधित्व करता है। यह एक शुभ ग्रह है लेकिन कुछ स्थितियों में बुध अशुभ ग्रह में बदल सकता है। बुध कम्युनिकेशन का ग्रह है।
यह व्यापार,वाणिज्य,कॉमर्स,व्यापार, खाते, बैंकिंग, मोबाइल, नेटवर्किंग, कंप्यूटर आदि से संबंधित क्षेत्रों का प्रतीक है। एक मजबूत बुध इन क्षेत्रों में सफलता को दर्शाता है।

कारक:

बुध ग्रह बुद्धि, चतुरता, वाणी, शिक्षा, गणित, लेखन, तर्क-वितर्क, नृत्य एवं नाटक, मामा, मित्र, गला, नाक, कान, फेफड़े, आवाज, ज्योतिषी विज्ञान, व्यपार आदि का कारक ग्रह है।

शक्तिशाली बुध के प्रभाव:

एक शक्तिशाली बुध आपके जीवन के उपर्युक्त क्षेत्रों में सफलता का प्रतीक है। ताकतवर बुध वाले लोग तेज दिमाग के होने की वजह से उनके सोचने की शक्ति अच्छी होती है। लेकिन, इनकी एक समस्या यह होती है कि ये चिंता और अनिश्चितता से प्रभावित होते हैं।

बुध एक दोहरी प्रकृति का ग्रह है। बुध ग्रह ज्योतिष में दो राशि चिह्न अर्थात् कन्या और मिथुन पर अपना नियंत्रण रखता है। हाथ, कान, फेफड़े, तंत्रिका तंत्र, त्वचा आदि शरीर के अंग बुध से प्रभावित हैं। बुध तर्क को दर्शाता है। वे लोग जिनकी कुंडली में बुध एक मजबूत स्थिति में होता है वे समझदार, तर्क–वितर्क में कुशल और एक बेहद अच्छी विश्लेषणात्मक क्षमता वाले होते हैं।

अपने चार्ट में मजबूत स्थिति वाले बुध वालों के पास तेज सोच है, लेकिन जन्मजात चिंता और अविवेक भी है। बुध तर्क में विश्वास करता है। अपनी कुंडली में मजबूत बुध वाले लोग तर्क और विश्लेषणात्मक क्षमता की उत्कृष्टता रखते हैं। शोधकर्ताओं ने भी अपने घातक चार्ट में मजबूत बुध है।

बुध के स्वामित्व के व्यक्ति दो प्रकार के होते है एक प्रकार में कद ऊचा, चेहरा लम्बा, मस्तक विशाल होता है दूसरे प्रकार में माध्यम कद, हाथ लम्बे, पेट पतला, कमर मोटी, रंग साधारण गोरा अथवा लाल गोरा होता है।

कमजोर बुध के प्भाव:

कुंडली में बुध दूषित होने से पागलपन, दौरे पड़ना, मस्तिष्क के रोग होते है। बुध की स्थिति अच्छे होते हुए भी अगर मंगल दूषित हो तो त्वचा रोग होते है। चेचक, खुजली, फोडेफुंसी, कोढ़ आदि रोग इस स्थिति में उत्पन होते है। कमजोर बुध के व्यक्ति की आंखें बड़ी लेकिन उग्र होती है अनझों में लाल रंग की शिलाये बानी होती है, ऐसा व्यक्ति बहुत काम बोलता है अपना फायदा हो तभी बोलता है, अपनी बातें किसी को नहीं बताते। क्रोधी झगड़ालू स्वभाव के होते है। किसी की बात न माने वाले, जीवन मैं स्थिरता कम होती है। पैसे के व्यवहार के लिए ये लोग लायक नहीं होते।

बुध से संबंधित व्यापार–व्यवसाय:

बुध, टेलीफोन, टेलीग्राफ, ई मेल, कूरियर और अन्य प्रकार की पोस्ट से संबंधित कार्यों को भी नियंत्रित करता है। अच्छी तरह से मजबूत बुध लेखकों, ज्योतिषियों, न्यूज़ रिपोर्टरों, मीडिया व्यक्तियों, गणितज्ञों, चार्टर्ड एकाउंटेंट्स, वकीलों, डीलरों, दलालों, व्यापारियों, आदि की कुंडलियों में देखा जाता है। इसी प्रकार, कई सफल कलाकार, मूर्तिकार और विक्रेताओंकी जन्म कुंडली में भी बुध की अच्छी स्थिति देखने को मिलती है।

यह भी पढ़े: गायत्री मंत्र का अर्थ व लाभ

5. बृहस्पति:

brahspati

वैदिक ज्योतिष में बृहस्पति ग्रह का बड़ा महत्व है। बृहस्पति ग्रह को संक्षेप में गुरु या बृहस्पति कहा जाता है। यह एक शुभ ग्रह है जो लोगों को अमीर, आज्ञाकारी, बुद्धिमान, आध्यात्मिक, शिक्षित, सुसंस्कृत, और उदार बनाता है। बृहस्पति ग्रह सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रहों में से एक है।

इस विशाल ग्रह को इंसान के जीवन में एक महान भूमिका मिली है। ग्रह को अत्यधिक आध्यात्मिक कहा जाता है। यह भक्ति, पूजा और प्रार्थना का प्रतीक है। वैदिक ज्योतिष में बृहस्पति शिक्षा, ज्ञान, धन, खुशी और ज्ञान का प्रतिनिधित्व करता है। इसे अत्यधिक लाभकारी ग्रह भी माना जाता है। बृहस्पति सब कुछ सबसे अच्छा करता है अगर यह अनुकूल रूप से किसी व्यक्ति की कुंडली में रखा गया है। उसकी प्रकृति वृद्धि और विकास का प्रतीक है। उसके प्रभाव में व्यक्ति भाग्यशाली, धार्मिक, सफल और उच्च नैतिक मूल्यों वाला उदार होगा।

भारतीय ज्योतिष में बृहस्पति को गुरु माना जाता है क्योंकि बृहस्पति हमारे सौर मंडल का सबसे बड़ा ग्रह है। गुरु का अर्थ है, जो विशाल और महान है। बृहस्पति दो राशियों धनु और मीन का शासक है। व्यवसाय के जानकार बृहस्पति पुजारियों और शिक्षकों पर इसके प्रभाव का संकेत देते हैं।

एक महिला की कुंडली में बृहस्पति उसके पति और सुखी वैवाहिक जीवन का संकेतकर्ता (करक) है। यदि अनुकूल स्थिति में प्रस्तुत किया जाता है, तो यह विवाहित जीवन में खुशहाल रिश्ते सुनिश्चित करता है। विपरीत परिस्थिति में, वह एक महिला को दंभी और अभिमानी बनाता है जिससे उसके विवाहित जीवन को नुकसान होता है।

गुरु ग्रह जन्म कुंडली में सबसे प्रभावी ग्रहों में से एक है और शुक्र ग्रह के लिए महत्वपूर्ण है। बृहस्पति बच्चों और धन से बहुत निकट से जुड़ा हुआ है। इसीलिए इसे संतान और धन का महत्व कहा जाता है।

कारक:

बृहस्पति जी ज्ञान, शिक्षा, धार्मिक कार्यो, भक्ति, प्राचीन साहित्य, धन संम्पति, मान-सम्मान, पूर्वजो, बड़े भाई, शरीर में चर्बी, मधुमेह, कान, धर्मार्थ संस्थाए, जज, वकील, न्यायालय, अध्यापक, शेयर बाजार, ज्योतिषी आदि का कारक है।

शक्तिशाली बृहस्पति के प्रभाव:

कुंडली में नकारात्मक बृहस्पति निराशावाद, अवसाद और थकावट का संकेत देता है। रंग पीला है और रत्न पीला नीलम है। अपनी कक्षा पथ को पूरा करने के लिए उन्हें एक वर्ष का समय लगता है। जब बृहस्पति ग्रह मजबूत होता है, तो मूल निवासी को बच्चों, धन, धन और आध्यात्मिक सफलता का आशीर्वाद दिया जाता है।

बृहस्पति के प्रभाव से पैदा हुए लोग कर्तव्यपरायण, आज्ञाकारी, ईमानदार होते हैं और लोगों के कल्याण की ओर उनका झुकाव होता है। बृहस्पति ग्रह काफी मजबूत होता है जो अच्छे स्वास्थ्य, व्यक्तित्व, विलासिता, आध्यात्मिकता, शक्ति, स्थिति और अधिकार आदि जैसे अत्यधिक लाभ लाता है। बीमार बृहस्पति किसी को भी दरिद्र बना सकता है।

बृहस्पति ईमानदार, कर्तव्यपरायण, प्यारा और स्नेही है। वह व्यक्ति बृहस्पति ग्रह से संबंधित है जिसे अक्सर सामाजिक कल्याण से जुड़ा हुआ देखा जाता है और वह मंदिर और ट्रस्ट का प्रमुख बन जाता है। शुभ बृहस्पति जातक को एक अच्छा शिक्षक, शिक्षक, कोषाध्यक्ष, पुजारी, सामाजिक कार्यकर्ता बना सकता है और यह व्यक्ति को आध्यात्मिक संगठन का प्रमुख बना सकता है

कमजोर बृहस्पति के प्रभाव:

इस ग्रह के दुष्प्रभाव से पीलिया और जिगर की समस्याएं होती हैं। यदि 12 वें घर में रखा जाता है, तो वह मृत्यु के बाद मोक्ष देता है। दूषित बृहस्पति वाला व्यक्ति संतान और धन से वंचित रहता है और उसको समाज में मान समानं भी नहीं मिलता।

ऐसे व्यक्ति का ध्यान धार्मिक कार्यो में कम होता है वह अपने पूर्वजो द्वारा अर्जित की हुए संपत्ति का विनाश करते है।कमजोर बृहस्पति वाला व्यक्ति या तो अत्यधिक मोटा होता है या बहुत ही पतला।कमजोर बृहस्पति वाले व्यक्ति को कानूनी कार्यो से दूर ही रहना चाहिए। ऐसे व्यक्ति अज्ञानी और कम शिक्षा ग्रहण करता है।

आम तौर पर बृहस्पति ग्रह कानून पर शासन करता है। बृहस्पति चरित्र से पुल्लिंग, उग्र, संगीन, सकारात्मक, उदार, हंसमुख, लाभदायक और सभ्य है।
गुरुवार को मुहूर्त शास्त्र में बृहस्पति को सौंपा गया है। जिन लोगों ने धनु और मीन राशि में जन्म लिया है वे स्वभाव से समर्पित, सभ्य और आध्यात्मिक हैं।

बृहस्पति अच्छा होने पर व्यवसाय:

जब बृहस्पति मजबूत और शुभ होता है, तो वह एमबीए, प्रबंधन, मनोविज्ञान, दर्शनशास्त्र, वेद, प्राचीन ज्ञान, परामर्शदाता, संस्कृत, साहित्य, वित्त, बैंकिंग, जैव प्रौद्योगिकी, कानून, आयकर, न्यायाधीश, वकील, से संबंधित विषयों और पेशों में सफलता देता है। लेखा परीक्षक, संपादक, प्रोफेसर, शिक्षक, पुजारी, ज्योतिषी, प्रशासक, मंत्री, आदि। अनाज का व्यवसाय मुख्य रूप से बृहस्पति से जुड़ा है। बृहस्पति अच्छा होने पर हर तरह के खाद्य पदार्थ के व्यवसाय में सफलता मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कृष्ण जन्माष्टमी पर सुख-समृद्धि की प्राप्ति के लिए करें ये उपाय

panchmukhi hanuman

हनुमान जी के शक्तिशाली मंत्र – जिनके जाप से मिलती है हर काम में सफलता