in

नवग्रह मंत्र – दुर्भाग्य और दोषों को खत्म करने के लिए

Navgrah Mantra Hindi Me 

ज्योतिष शास्त्र या हिंदू ज्योतिष मे नौ ग्रह को सामूहिक रूप से नवग्रहों के नाम से जाना जाता है। पिछले कर्मों या जन्म से संबंधित दोषों से ​​उत्पन्न होने वाली विपत्ति या दुर्भाग्य से निपटने के लिए उनकी पूजा की जाती है। हिन्दू धरम में किसी पूजा को आरम्भ करने से पहले नवग्रहों को शांत किया जाता है, ताकि सभी दोष ख़तम हो जाये और पूजा से सम्बंधित किसी कार्य में अड़चन न आये। नौ देवताओं में से सात का नाम सौर मंडल के ग्रहों के नाम पर रखा गया है, और यह हिंदू कैलेंडर के सप्ताह में सात दिनों के नाम से मेल खाता है।

नवग्रह मंत्रो का संग्रह

navgrah

मानव जीवन नौ ग्रहों से काफी प्रभावित है और इसकी शत्रुतापूर्ण स्थिति सबकुछ खराब कर सकती है। महान ऋषियो ने अपने ज्ञान को स्तोत्रो में गड लिया जो आपके जीवन में सभी प्रकार की सकारात्मकता को बहाल करने में मदद करते हैं। नवग्रह मंत्र सरल लेकिन मजबूत उपचार प्रक्रिया हैं। नवग्रह मंत्र का नियमित जप वातावरण को सकारात्मक बनाता है और विपरीत परिस्थितियों को अनुकूल परिणाम देने के लिए प्रभावित करता है।

1. सूर्य मंत्र

ॐ ह्रीं ह्रौं सूर्याय नमः ।।

Om Hring Hraung Suryay Namah ।।

2. चंद्र मंत्र

ॐ ऐं क्लीं सोमाय नमः ।।

Om Aing Kling Somay Namah ।।

3. मंगल मंत्र

ॐ हूं श्रीं भौमाय नमः ।।

Om Hung Shring Bhaumay Namah ।।

4. बुध मंत्र

ॐ ऐं श्रीं श्रीं बुधाय नमः ।।

Om Aing Shring Shring Budhay Namah ।।

5. गुरु मंत्र

ॐ ह्रीं क्लीं हूं बृहस्पतये नमः ।।

Om Hring Cling hung Brihsptye Namah ।।

6. शुक्र मंत्र

ॐ हरिंग श्रृंग शुक्राय नमः ।।

Om Hring Shring Shukray Namah ।।

7. शनि मंत्र

ॐ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चराय नमः ।।

Om Aing Hring Shring Shanaishchray Namah ।।

8. राहु मंत्र

ॐ ऐं ह्रीं राहवे नमः ।।

Om Aing Hring Rahave Namah ।।

9. केतु मंत्र

ॐ ह्रीं ऐं केतवे नमः।।

Om Hring Aing Ketave Namah ।।

यह भी पढ़े:

सफलता प्राप्त करने के लिए मंत्र

आसान सरस्वती मंत्र बच्चों को बनाएं पढ़ाई में तेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ganesh ji

जानिए गणेश चतुर्थी की पूजा और मुहूर्त का समय जिससे गणपति करेंगे सभी संकट दूर

bhagti

शारीरिक व मानसिक बीमारियों से राहत पाने की विधि