in

शारीरिक व मानसिक बीमारियों से राहत पाने की विधि

bhagti
naidunia

संकल्प शक्ति एक ऐसी अदभुत शक्ति है जिसके द्वारा सब कुछ संभव है प्रभु से कभी नही कहना चाहिए की मेरी समस्या विकट है हमेशा समस्या को कहना चाहिए की प्रभु मेरे निकट है इस कलयुग के अंतिम समय में सभी मनुष्य आत्माएं अपने-अपने कर्मों के अनुसार अनेक प्रकार के दुखों से पीड़ित हो रही है आज हर मनुष्य अनेक प्रकार की शारीरिक व मानसिक बीमारियों से परेशान है और मनुष्य सोचता है कि यह सब मेरे साथ ही क्यों हो रहा है इसका जवाब स्वयं प्रभु ने हमें बताया है कि हमारे साथ जो कुछ भी हो रहा है यह हमारे पिछले जन्मों के कर्मों का हिसाब किताब है और इनका भुगतान अनेक बीमारियों के रूप में करना पड़ेगा और इन सब के लिए हम स्वयं दोषी हैं

इन बीमारियों के क्या कारण है

बीमारियों का निवारण के लिए स्वयं परमपिता परमात्मा ने हमें बहुत से रास्तें बताये है और इन बीमारियों को कम करने के लिए सहज विधियाँ भी बताई है बेशक आज मनुष्य अपनी बीमारियों से बचने के लिए हम अनेक प्रकार के उपचार करवाते रहते हैं और दवाइयां भी खाते रहते हैं पर उनसे पूरा-पूरा फायदा ना होने पर हम सब निराश हो जाते हैं यदि हम पूरी तरह स्वस्थ होना चाहते हैं तो हमें अपनी दिनचर्या में कुछ परिवर्तन लाने होंगे अपने संकल्पों और विचारों में हमे प्रभु को याद करना चाहिए

ऐसा कहा भी जाता है की जैसा-जैसा आप सोचते हो वैसा-वैसा आपके साथ होता है तो क्यों ना आज से हम अपने लिए अपने कुछ विचारों का प्रयोग करके देखें यदि हम ठीक होने के लिए दवाइयों के साथ-साथ अच्छे पॉजिटिव विचारों की दवाई भी मन को दें तो शारीरिक बीमारी के साथ साथ मानसिक बीमारी भी ठीक हो जाएगी ऐसा माना जाता है कि अगर आपका शरीर बीमार है पर आपका मन स्वस्थ है और मन में अच्छे-अच्छे विचार चलते हैं तो आप भी बहुत जल्दी स्वस्थ हो जाते हैं

स्वस्थ होने की कुछ सहज विधियाँ

  1. सुबह उठते ही सबसे पहले बिस्तर पर बैठे-बैठे एक पॉजिटिव संकल्प करो की मैं आज बिल्कुल स्वस्थ हूं आज मेरी तबीयत बहुत अच्छी है सुबह-सुबह अपने मन को मैसेज दें और यह संदेश दें की मेरी बीमारी ठीक हो चुकी है

 

  1. सारा दिन अच्छा अच्छा महसूस करें और यह सोचे कि आज मैं बहुत खुश हूं मुझे ऐसा करने के लिए स्वयं परमपिता परमात्मा कह रहे हैं अच्छा सोचने से मेरी बीमारी ठीक हो जाएगी मुझे आज ज्यादा से ज्यादा खुश रहना है

यह भी पढ़े: क्या होता है ब्रह्म मुह्रत और इसमें कोनसे काम करने चाहिए 

  1. दिन में जितनी बार पानी पिए उतनी बार अपने हाथ में गिलास लेकर 1 मिनट परमात्मा को याद करें और यह महसूस करें की पानी की गिलास में परमात्मा ने बहुत शक्तियां मिलाई है और इससे मेरी सभी बीमारियां ठीक हो जाएँगी ऐसा संकल्प 7 बार करें और पानी पी ले

 

  1. भोजन करते समय और दवाइयां खाते समय 1 मिनट परमात्मा को याद करें और फिर उसे ग्रहण करें

 

  1. सारे दिन में जितने भी लोगों से मिले उनसे मिलने का बार-बार यह कहे कि मैं पूरा स्वस्थ हूं मेरी तबीयत बहुत अच्छी है और परमात्मा का शुक्र है ऐसा बार-बार मन में सोचते रहना चाहिए

 

  1. सारे दिन में तीन चार बार थोड़ा-थोड़ा समय निकालकर परमात्मा की याद में अवश्य बैठे हैं और महसूस करें कि स्वयं परमात्मा ने अपने वरदानी हाथों को आपके सिर पर रखा है और आपकी सारी बीमारियां और चिंताएं समाप्त हो गई है अपनी सारी चिंताएं परमात्मा को देकर हल्के हो जाना चाहिए

 

  1. रात को सोने से पहले फिर से संकल्प करें कि मेरा आज का पूरा दिन बहुत अच्छा बीता है आज मैं पहले से बेहतर महसूस कर रहा हूं मेरी सारी बीमारियां ठीक हो चुकी हैं और मैं पूर्णतया स्वस्थ हूं

यह सब करने से आप उस परमपिता परमात्मा के करीब होते चले जाते है और सब चिंताओं से मुक्त होते जाते है परमात्मा को पाने के लिए आपको कही पर जाने की जरूरत नही है कोई भी भक्ति, तीर्थ स्थल, व्रत उपवास आपको भगवान से नही मिला सकता जब तक उसको आप सच्चे तन और मन से नही करोगे क्योकि भगवान ने स्वमं कहा है की अपने उपर विश्वास रखने से ही मनुष्य अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर सकता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

navgrah

नवग्रह मंत्र – दुर्भाग्य और दोषों को खत्म करने के लिए

ganesh-namavali

श्री गणपति 108 नामावली