in

हिन्दू पुराणों के अनुसार शिव चतुर्दशी व्रत की विधि

शिव चतुर्दशी व्रत Shiv Chaturdashi Vrat Dates 2019

तिथि   दिन पर्व 
04 जनवरी 2019 शुक्रवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
02 फरवरी 2019 शनिवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
04 मार्च 2019 सोमवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
03 अप्रैल 2019 बुधवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
03 मई 2019 शुक्रवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
01 जून 2019 शनिवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
01 जुलाई 2019 सोमवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
30 जुलाई 2019 मंगलवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
28 अगस्त 2019 बुधवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
27 सितंबर 2019 शुक्रवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
26 अक्टूबर 2019 शनिवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
25 नवंबर 2019 सोमवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 
24 दिसंबर 2019 मंगलवार मासिक शिवरात्रि एवं शिव चतुर्दशी व्रत 

शिव चतुर्दशी का व्रत हर महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दिन किया जाता है। इस दिन भगवान शिव और शिव परिवार माता पार्वती, गणेश जी, कार्तिकेय और शिवगणों की विधिवत पूजा की जाती है। जो भी व्यक्ति इस दिन व्रत करता है वह काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि के बंधन से मुक्त हो जाता है और उसके माता- पिता के सारे पाप नष्ट हो जाते हैं।shiv chaturdashi

शिव चतुर्दशी व्रत विधि Shiv Chaturdashi Vrat Vidhi

शिव चतुर्दशी के दिन व्रत का संकल्प करके भगवान शिव की धूप, दीप, नवेद्य, पुष्प, भांग, धतूरा और बेलपत्र आदि से आराधना करनी चाहिए। इस दिन व्रत करने वाले को एक ही समय भोजन करना चाहिए। किसी भी मंदिर में जाकर या अपने घर के मंदिर में बैठकर पंचाक्षरी मंत्र  “ऊँ नम: शिवाय” या “शिवाय नम:” शिव के इन मंत्रों का जाप करना चाहिए। महामृत्यंजय मंत्र का जाप प्रतिदिन करना चाहिए। इससे सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है।

चतुर्दशी व्रत के उपरांत ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए और स्वयं भी भोजन करना चाहिए। शिव चतुर्दशी का व्रत को पूरे श्रद्धाभाव से करने से सम्पूर्ण सुखों की प्राप्ति होती है। इस व्रत की महिमा से व्यक्ति दीर्घायु, ऐश्वर्य, आरोग्य, संतान एवं विद्या आदि प्राप्त कर अंत में शिवलोक जाता है।

शिव चतुर्दशी पर किस चीज को चढ़ाने से कौन सा फल मिलता है

शिव चतुर्दशी के दिन भगवान शिव को चावल चढ़ाने से धन की प्राप्ति होती है।

शिव चतुर्दशी के दिन भगवान शिव को तिल चढ़ाने से सभी पापों का नाश होता है।

शिव चतुर्दशी के दिन भगवान शिव को जों अर्पित करने से सुख समृधि में वृद्धि होती है।

शिव चतुर्दशी के दिन भगवान शिव को गेहूं चढ़ाने से संतान में वृद्धि होती है।

इन सभी वस्तुओं को पूजा के समय भगवान शिव को अर्पण करने के बाद गरीबों में अथवा जिस किसी को इन की सबसे ज्यादा आवश्यकता हो उन्हें दे देनी चाहिए। इससे भगवान शिव की कृपा तो बनी ही रहेगी साथ में आपके पूण्य कर्म से किसी का भला भी हो जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

pardosh vrat

जनवरी महीने में किन किन तिथियों में है प्रदोष व्रत

rashiratan

हिंदू ज्योतिष के अनुसार प्रत्येक राशि के लिए रत्न