in

श्रावण मास में भगवान शिव की पूजा-अर्चना कैसे करें

श्रावण मास का महिना भगवान शिव और उनके भक्तों के लिए बहुत ही खास होता है। इस माह के आरम्भ होते ही भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए उनके भक्त व्रत, पूजा पाठ, हवन आदि करते है। मंदिरों और पवित्र स्थलों में भी भगवान शिव शंकर के दर्शनों के लिए सभी भक्त जाते है। सबसे ज्यादा व्रत उपवास इसी माह में किए जाते हैं।

Bhagvan Shiv Shankar

यदि आप भी भोलेनाथ को प्रसन्न करना चाहते हैं तो श्रावण मास में या प्रत्येक सोमवार को ये काम कर सकते हैं।

  1. प्रातः काल सूर्योदय से पहले उठे और स्नान आदि करके साफ़ एवम स्वच्छ वस्त्रों को धारण करें।

    Contents

  2. पूजा वाले स्थान को स्वच्छ करते हुए देवी देवताओं की स्थापित की हुई मूर्तियों को भी गंगा जल या स्वच्छ जल से साफ़ करना चाहिए।

  3. शिव मंदिर में जाकर भगवान शिव के शिवलिंग स्वरूप को दूध, जल, शक्कर आदि चढ़ाएं।

  4. तिल के तेल का दीया जलाएं और भगवान शिव को पुष्प अर्पण करें और श्रद्धा के साथ महादेव के व्रत का संकल्प लें।

  5. पुरे दिन में जितना हो सके भगवान शिव का ध्यान लगाये और उनके मन्त्रों का जाप करते रहे।                                                                                                                                   यह भी पढ़े: शिव यजूर मंत्र (कर्पूरगौरं करुणावतारं)

  6. मंत्रोच्चार सहित शिव को सुपारी, पंचामृत, नारियल एवं बेल की पत्तियां चढ़ाएं।

  7. व्रत के दौरान सावन व्रत कथा का पाठ अवश्य करें और पूजा समाप्त होते ही प्रसाद का वितरण करें।

  8. संध्याकाल में पूजा समाप्ति के बाद ही व्रत खोलें और भगवान शिव को भोग लगाने के बाद ही स्वमं भोजन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

HANUMAN JI

हनुमान जी को किस किस ने और कब वरदान दिये

krishna

भगवान कृष्ण के बारे में 21 आश्चर्यजनक और रोचक तथ्य